जीवन के रंग23 July, 2019
Gyming and health

क्या जिम में व्यायाम करना स्वास्थ्य के लिए लाभकारी है?

फ़िल्मी कलाकारों की तरह कसरती बदन पाने की चाह में साहिल ने जिम शुरू कर दिया। सलमान खान उसके पसंदीदा कलाकारों में से एक था, उसकी तरह मजबूत और कसरती बदन की चाहत में वो रोज़ घंटो जिम में पसीना बहाता था ।

फिर एक दिन जिम में डम्बल उठाते-उठाते अचानक वो बेहोश होकर गिर पड़ा, डम्बल भी उसके हाथ से छूटकर उसके पैरों पर गिरा और उसका पैर फ्रैक्चर हो गया।

जब डॉक्टर से इस बारे में बात की तो उसने बताया कि, दिन में एक निश्चित समय से अधिक तक जिम करने की वजह से बहुत ज्यादा पसीना शरीर से निकला और शरीर में पानी की मात्रा कम होने लगी जिससे उसे डीहाइड्रेशन हो गया।

V-शेप बॉडी और सिक्स-पैक्स-एब्स की चाह रखना गलत नही, लेकिन थोड़ी सी लापरवाही ने साहिल को हॉस्पिटल पहुंचा दिया। इसके पैर पर प्लास्टर चढ़ चुका था और अगले कई दिन उसे बिस्तर पर गुजारने पड़े।

Does Gyming good

वर्तमान जीवन में व्यायाम के मायने;

कसरती एवं गठीला बदन वर्तमान युवा पीढ़ी के लिये एक जूनून बन चुका है, और इसके लिये हम जिम में घंटो पसीना बहाने से भी परहेज नही करते। किन्तु क्या जिम में घंटो तक कसरत करना ठीक है? क्या जिम का स्वास्थ्य पर कुछ नकारात्मक प्रभाव भी होता है? आइए, आज इस विषय पर कुछ विचार करते हैं |

जिम के स्वास्थ्य पर होने वाले सकारात्मक प्रभाव;

जिम के स्वास्थ्य पर होने वाले सकारात्मक प्रभावों से तो हम सभी भलीभांति परिचित है, जैसे:-

  • शारीरिक तनाव कम करने में।
  • वजन संतुलित एवं शरीर को एक सुन्दर आकार में रखने में|
  • जिम में व्यायाम से शारीरिक स्टैमिना बढ़ता है जिससे आप बिना थके लम्बे समय तक कार्य कर सकते हैं
  • जिम जाने से अच्छे कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता है, ब्लड प्रेशर भी मेंटेन रहता है, जिससे हृदय रोग का खतरा कम होता है।
  • जो लोग अवसाद से ग्रसित होते है, डॉक्टर उन्हें नियमित व्यायाम की सलाह देते है।
  • अनिद्रा की बीमारी में भी जिम फायदेमंद है।
  • घर में टीवी देखने की अपेक्षा व्यायाम के लिये जिम जाने से नए व अच्छे दोस्त भी बनते हैं|

जिम के स्वास्थ्य पर होने वाले नकारात्मक प्रभाव;

जिम के स्वास्थ्य पर होने वाले सकारात्मक प्रभाव है, किन्तु जिम की अधिकता अथवा इसे सही तरीके से नही करने के अपने कुछ नकारात्मक प्रभाव भी है, जैसे की:-

  • यदि जरूरत से ज्यादा जिम किया जाए, तो अधिक मात्रा में कैलोरी बर्न होगी, जिससे शरीर के लिये आवश्यक कैलोरी नही मिलेगी और कमजोरी महसूस होती है।
  • जिम में पसीना बहाने से हड्डियां मजबूत होती है किन्तु इसके विपरीत यदि हम जरूरत से ज्यादा जिम करते है तो हड्डियां कमजोर हो जाती है।
  • बिना अच्छी गाइडेंस के और अपनी शारीरिक क्षमता से अधिक एक्सरसाइज करने से शरीर में इंजरी होने का खतरा बहुत बढ़ जाता है।
  • डॉक्टरों का कहना है कि जिम में जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज और वेट ट्रेनिंग से मर्द के स्पर्म कमजोर होते हैं। दरअसल ऐसा करने से स्पर्मेटिक कॉर्ड में वैरिकोज वेन्स बढ़ जाती है जिससे स्पर्म काफी कमजोर होते हैं।
  • ज्‍यादा कसरत करने से खून का दबाव बढ़ता है और शरीर से इंसुलिन और एचडीएल कोलेस्‍ट्रॉल का स्‍तर घटता है। इसके चलते दिल की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है।

योग अथवा जिम;

यदि फिटनेस की बात करें तो योगा के साथ बड़े पैमाने पर लचीलापन, शरीर में रंगत, एक निश्चित मजबूती पाई जा सकती है। योगा सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता है।

योग एक आध्यात्मिक प्रक्रिया है, जो शरीर को लचीला एवं स्वस्थ्य बनाने के साथ ही साथ शरीर में एक सकारात्मक ऊर्जा का भी संचार करता है। योग भारतीय जीवन पद्धति का एक प्राचीनतम आधार है।

https://jeevankerang.com

मोटापा दूर करने में, बिमारियों के उपचार में, शरीर में ऊर्जा के संचार में इत्यादि में योग का विशेष महत्व है।  योगा पाचन तंत्र, संचार तंत्र, लसीका तंत्र आदि के लिए लाभकारी है। योग के द्वारा तनाव के स्तर को भी कम किया जा सकता है।

योगा में जिम की तरह कराहना, डंबल्स का गिरना जैसी उत्तेजक चीजें नहीं होती हैं। योगा मानसिक शांति एवं आराम की स्थिति हैं।

हर कार्य के सकारात्मक और नकारात्मक दो पहलू होते है, हमारा मकसद केवल इन दोनों ही पहलुओं को आप तक पहुँचाना था ताकि आप अपनी ज़रुरत के अनुसार ठीक रास्ता चुन सकें|

शुमकामना सहित आपकी सेवा में….

भारत के युवा लोग जो अपने जीवन में नई ऊंचाईयों को छूने का जज्बा रखते हैं, यह ब्लॉग उन्हें जीवन के विभिन्न पहलुओं को बड़े ही व्यवहारिक तरीकों से अवगत करवाता है |

5 Comments

  1. Jyoti Reply

    A very useful page that is imparting quality education and knowledge among all kind of readers .

    Suggesting you to write on
    : women’s empowerment and their rights in our society.

    Keep posting….Awaiting for more articles.

    1. Admin Post author Reply

      Thanks Ms. Jyoti for your appreciation and suggestion. Will surely include a write-up on women’s empowerment and their rights.

Leave a Reply to Sandeep Tiwari Cancel reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *